उज्जैनमध्य प्रदेश

कुमार की टिप्पणी को लेकर भाजपा नेताओं के बीच सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग

इशारों-इशारों में कस दिए तंज

उज्जैन :- उज्जैन में चल रहे 30 दिनी विक्रम महोत्सव में प्रख्यात कवि डाॅ. कुमार विश्वास द्वारा आरएसएस पर की गई टिप्पणी पर भले ही उनके द्वारा माफी मांग ली गई हो लेकिन भाजपा के भीतर अभी तूफान नहीं थमा है। खासकर भाजपा नेताओं के निशाने पर आए कैबिनेट मंत्री डाॅ. मोहन यादव और उज्जैन उत्तर के विधानसभा दावेदार सोनू गेहलोत के बीच सोशल मीडिया पर वार छिड़ी हुई है। हालांकि, दोनों ही नेता सीधे तौर पर एक-दूसरे को कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

दरअसल, दो दिन पूर्व प्रख्यात कवि डाॅ. कुमार विश्वास द्वारा अपने-अपने राम कथा आयोजन के दौरान संघ पर अनपढ़ होने का तंज कंसा था। इसके बाद भाजपा के कई बड़े नेताओं ने इस गलत बयानी को लेकर सोशल मीडिया पर कुमार पर जमकर गुस्सा उतारा लेकिन मैदान में एकमात्र भाजपा नेता नजर आए वे थे सोनू गेहलोत। जिन्होंने सबसे पहले कुमार विश्वास के पोस्टरों पर कालिख पोतने और फाड़ने का काम किया। यहां हम अपने दर्शकों को यह भी बताते चलें कि सोनू गेहलोत उज्जैन उत्तर में विधानसभा के प्रबल दावेदार हैं लेकिन उन्होेंने कुमार विश्वास की टिप्पणी को लेकर जो पोस्टर फाड़ने का काम किया वह उज्जैन दक्षिण में आता है। स्वाभाविक रूप से यह बात विधायक डाॅ. मोहन यादव के गले नहीं उतरना थी। नतीजा यह हुआ कि उन्होंने विरोध को लेकर अपनी फेसबुक वाॅल पर लिखा कि मरी हुई मछली धारा के साथ चलती है और जिंदा मछली धारा के विपरीत तैरती है।

जवाब में सोनू गेहलोत ने अपनी फेसबुक वाॅल पर लिखा कि जंग अपनों से हो तो हार जानी चाहिए। वैसे तो यह दोनों पोस्ट किसी के नाम से नहीं लिखी गई हैं लेकिन समझने वाले समझ रहे हैं कि इशारा किस तरफ है और निशाना किस ओर। हालांकि, दोनों ही पक्ष के समर्थक इस मामले से अपने आपको बचाए हुए हैं। यह यह देखना वाकई दिलचस्प होगा कि दोनों बड़े नेताओं के बीच खींची अहम की तलवार क्या गुल खिलाती है।

Related Articles

Back to top button